BHARTIYA JAN AUSHADHI PARIYOJANA

Bhartiya Jan Aushadhi Pariyojana – (BJAP) भारत सरकार की एक पहल है जिसका उद्देश्य आम जनता को सस्ती और गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराना है। इसे रसायन और उर्वरक मंत्रालय के फार्मास्यूटिकल्स विभाग द्वारा 2008 में ‘प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना’ (पीएमबीजेएपी) अभियान के तहत लॉन्च किया गया था।

भारतीय जन औषधि योजना का मुख्य उद्देश्य ब्रांडेड दवाओं की तुलना में काफी कम कीमतों पर जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराना है। सुरक्षा, खुराक, शक्ति, गुणवत्ता और प्रभावशीलता के मामले में जेनेरिक दवाएं अनिवार्य रूप से ब्रांडेड दवाओं के बराबर होती हैं, लेकिन उन्हें बिना किसी ब्रांड पहचान के उनके जेनेरिक नाम से बेचा जाता है।

BJAP पहल के तहत, सरकार ने पूरे भारत में जन औषधि स्टोर (JAS) की स्थापना की है, जहाँ जनता को जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराई जाती हैं। ये स्टोर एक बोली प्रक्रिया के माध्यम से चुने गए व्यक्तियों या संगठनों द्वारा संचालित होते हैं। इन दुकानों पर बेची जाने वाली दवाएं गुणवत्ता जांच से गुजरती हैं और सरकार द्वारा अनुमोदित दवा कंपनियों से प्राप्त की जाती हैं।

Also read- 2000 के नोट का सच जानें

Bhartiya Jan Aushadhi Pariyojana In Hindi |Features

भारतीय जन औषधि परियोजना रोगियों पर वित्तीय बोझ को कम करने और भारत में सस्ती स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच में सुधार करने में सहायक रही है। इसने महत्वपूर्ण लोकप्रियता हासिल की है और उन लोगों को आवश्यक दवाएं उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है जो महंगे ब्रांडेड विकल्प नहीं खरीद सकते।

भारतीय जन औषधि योजना की प्रमुख विशेषताएं हैं:

सस्ती दवाएं: यह पहल ब्रांडेड दवाओं की तुलना में काफी कम कीमत पर जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराने पर केंद्रित है, जिससे समाज के सभी वर्गों के लिए स्वास्थ्य सेवा अधिक सुलभ और सस्ती हो जाती है।

गुणवत्ता आश्वासन: BJAP के तहत बेची जाने वाली जेनेरिक दवाएं सख्त गुणवत्ता जांच से गुजरती हैं और प्रतिष्ठित दवा कंपनियों से प्राप्त की जाती हैं जो आवश्यक गुणवत्ता मानकों को पूरा करती हैं।

व्यापक उपलब्धता: जनता के लिए सस्ती दवाओं तक आसान पहुंच सुनिश्चित करने के लिए शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों सहित पूरे भारत में विभिन्न स्थानों पर जन औषधि स्टोर स्थापित किए गए हैं।

दवाओं की रेंज: यह पहल विभिन्न बीमारियों, पुरानी बीमारियों और सामान्य स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों के लिए आवश्यक दवाओं सहित जेनेरिक दवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करती है।

जेनेरिक दवाओं को बढ़ावा देना: कार्यक्रम का उद्देश्य डॉक्टरों, रोगियों और आम जनता के बीच उनकी गुणवत्ता, प्रभावकारिता और लागत-प्रभावशीलता के बारे में जागरूकता पैदा करके उनके उपयोग को बढ़ावा देना है।

Pradhan Mantri Janaushadhi Pariyojana In Hindi

How To Participate In Bhartiya Jan Aushadhi Pariyojana

भारतीय जन औषधि परियोजना (बीजेएपी) में भाग लेने के लिए आप नीचे दिए गए चरणों का पालन कर सकते हैं: | Process To Open Janaushadi kendra

  1. जन औषधि स्टोर खोलें: जन औषधि स्टोर खोलना पहला कदम है। आपको एक आवेदन पत्र भरना होगा और इसे आवश्यक दस्तावेजों के साथ निकटतम जिला स्तरीय अधिकारी (डीएलओ) या नामित प्राधिकारी को जमा करना होगा। आवेदकों का चयन एक बोली प्रक्रिया के माध्यम से किया जाता है, और चयनित लोगों को स्टोर खोलने की अनुमति दी जाती है।
  2. जन औषधि स्टोर का प्रबंधन: एक बार जब आपका आवेदन स्वीकार कर लिया जाता है, और आपको जन औषधि स्टोर खोलने की अनुमति मिल जाती है, तो आपको स्टोर के संचालन का प्रबंधन करना होगा। आपको जन औषधि अधिकारी या आवंटित संगठन द्वारा प्रदान किए गए दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए और स्टोर की आपूर्ति और दवाओं की खरीद को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करना चाहिए।
  3. व्यवसाय का प्रचार और प्रसार करें: अपने जन औषधि स्टोर की दृश्यता और पहुंच बढ़ाने के लिए, आपको मार्केटिंग और प्रचार गतिविधियों में संलग्न होना चाहिए। इसमें जेनेरिक दवाओं की उपलब्धता और सामर्थ्य के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए पैम्फलेट वितरित करना, स्थानीय समाचार पत्रों में विज्ञापन, रेडियो घोषणाएं या स्वास्थ्य शिविर आयोजित करना शामिल हो सकता है।
  4. गुणवत्ता और मानक बनाए रखें: आपके स्टोर में बिकने वाली दवाओं की गुणवत्ता और मानक बनाए रखना आवश्यक है। सुनिश्चित करें कि आप अनुमोदित आपूर्तिकर्ताओं से दवाएं प्राप्त करते हैं और जन औषधि योजना द्वारा प्रदान किए गए दिशानिर्देशों और प्रोटोकॉल का पालन करते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए नियमित गुणवत्ता जांच की जानी चाहिए कि दवाएं आवश्यक मानकों को पूरा करती हैं।
  5. रिपोर्टिंग आवश्यकताओं का अनुपालन: भारतीय जन औषधि परियोजना में एक भागीदार के रूप में, आपको निर्दिष्ट अधिकारियों को बिक्री डेटा, स्टॉक इन्वेंट्री और वित्तीय विवरण सहित आवधिक रिपोर्ट प्रस्तुत करने की आवश्यकता हो सकती है। सुनिश्चित करें कि आप पारदर्शिता और जवाबदेही बनाए रखने के लिए इन रिपोर्टिंग आवश्यकताओं का अनुपालन करते हैं।

इन चरणों का पालन करके, आप भारतीय जन औषधि परियोजना में सक्रिय रूप से भाग ले सकते हैं और जनता को सस्ती और गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराने में योगदान दे सकते हैं।

Must Read- SSC CGL Syllabus And Pattern In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *